MantraCare

भारत में बेस्ट लेसिक सर्जरी पाएं | टॉप लेसिक डॉक्टर

लेसिक सर्जरी एक प्रकार की अपवर्तक सर्जरी है, जो दृष्टि को सही करने के लिए उपयोग की जाती है। आमतौर पर इस सर्जरी को एक नेत्र रोग विशेषज्ञ द्वारा किया जाता है। यह एक डॉक्टर हैं, जो आंखों के उपचार और देखभाल में माहिर होते हैं।

लेसिक का अवलोकन

लेसिक या लेजर-असिस्टेड सीटू केराटोमाइल्यूसिस दृष्टि सुधार या चश्मा हटाने के लिए एक सुरक्षित सर्जरी है। यह आंख की असामान्य स्थितियों जैसे मायोपिया, हाइपरोपिया और दृष्टिवैषम्य के इलाज में उपयोग की जाने वाली एक आंखों की करेक्टिव सर्जरी है। इस लेजर आई सर्जरी में स्ट्रोमा नाम के कॉर्निया की एक परत को फिर से आकार दिया जाता है, ताकि रोशनी रेटिना पर ज्यादा सटीक रूप से फोकस कर सके। यह आंखों की सर्जरी आंख के सामने वाले हिस्से को ठीक करने के लिए बहुत ज्यादा काम करने वाली लेजर और परिष्कृत उपकरणों के साथ ठंडी पराबैंगनी किरणों का उपयोग करती है। आंखों के लिए लेजर उपचार आमतौर पर एक दर्द रहित प्रक्रिया है और दोनों आंखों के लिए उपचार में मुश्किल से लगभग 20 मिनट लगते हैं। यह एक आउट पेशेंट प्रक्रिया है, जिसके लिए आपको अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत नहीं होती है। इसका मतलब है कि सर्जरी के बाद आपको उसी दिन छुट्टी दे दी जाती है। साथ ही आप अगले दिन से ही अपनी सामान्य गतिविधियों में वापस आ सकते हैं।

मुफ्त परामर्श

लेसिक के उपचार की कीमत का अंदाजा लगाएं

  • Hidden

लेसिक किन स्थितियों का इलाज कर सकती है?

कॉन्टैक्ट लेंस और चश्मे की तुलना में इन त्रुटियों को बेहतर तरीके से ठीक करने के लिए लेसिक असरदार प्रभावी साबित हुई है। आमतौर पर लेजर करेक्टिव आई सर्जरी निम्नलिखित समस्याओं को ठीक करने में मदद करती है:

मायोपिया [निकट दृष्टिदोष]

मायोपिया या निकट दृष्टिदोष आंख की एक ऐसी स्थिति है, जिसमें आंख पास की वस्तुओं पर पूरी तरह से ध्यान केंद्रित कर सकती है। इस समस्या वाले लोगों को दूर की वस्तुओं पर फोकस करने में कठिनाई होती है, जिससे सिरदर्द और आंखों में खिंचाव के साथ-साथ दूर की वस्तुओं की पहचान नहीं कर पाने जैसी समस्याएं हो सकती हैं। मायोपिया के लिए आंख में सुधार करने वाली लेजर सर्जरी का उद्देश्य मूल रूप से रेटिना पर प्रकाश को ठीक से केंद्रित करने में मदद के लिए कॉर्निया को समतल करना है।

हाइपरोपिया [दूर दृष्टि दोष]

हाइपरोपिया या दूरदर्शिता कई मायनों में मायोपिया की विपरीत स्थिति है। इसमें आंख दूर की वस्तुओं को साफतौर से देख सकती है, लेकिन आस-पास की वस्तुओं पर फोकस करना करना कठिन होता है। अगर मायोपिया की तरह हाइपरोपिया पर जल्द से जल्द ध्यान नहीं दिया जाए, तो गंभीर सिरदर्द और धुंधली दृष्टि की समस्या हो सकती है। हाइपरोपिया के लिए लेजर आई सर्जरी का मुख्य उद्देश्य आंख को लंबा करना और आंख की फोकस करने वाली पावर को बढ़ाने के लिए कॉर्निया को थोड़ा तेज करना है।

दृष्टिवैषम्य [एस्टिग्मेटिज्म]

दृष्टिवैषम्य यानी एस्टिग्मेटिज्म एक बहुत ही जटिल शब्द की तरह लग सकता है, लेकिन इसका सही मतलब आंखों का पूरी तरह गोल नहीं होना है। आमतौर पर दृष्टिवैषम्य में आंखों का घुमाव पूरी तरह से सममित नहीं होती है और कॉर्निया अनियमित होता है। कॉर्निया में अनियमितता की वजह से रोशनी चारों तरफ बिखर जाता है और दृष्टि में विकृति पैदा हो जाती है। आंखों में दृष्टिवैषम्य को ठीक करने के लिए लेसिक सर्जरी बहुत फायदेमंद है। इस सर्जरी में कॉर्निया के अनियमित भागों को चुनिंदा रूप से बदलकर आंख की गोलाई को सुचारू और समरूप बनाया जाता है।

आंखों की लेसिक सर्जरी की प्रक्रिया

लेसिक प्रक्रिया एक विशेष रूप से प्रशिक्षित आंखों के सर्जन द्वारा की जाती है, जिसमें शामिल हैं:

  • सबसे पहले सर्जन माइक्रोकेराटोम का उपयोग करके एक कठोर औक पतला टिका हुआ कॉर्नियल फ्लैप बनाते हैं।
  • गंभीर कॉर्नियल ऊतक को दिखाने के लिए फ्लैप को वापस खींचते हैं।
  • एक यूनिक प्री-स्पेसिफाइड पैटर्न में कॉर्निया को फिर से आकार देने के लिए सर्जन एक्सीमर लेजर का उपयोग करते हैं।
  • बिना टांके के गंभीर कॉर्निया पर फ्लैप को सुचारू रूप से वापस रखा जाता है।

आमतौर पर लेसिक प्रक्रिया में लगभग 20 मिनट लगते हैं। सर्जरी के बाद आप मरीज को घर ले जाने की योजना बना सकते हैं।

आंखों की लेसिक सर्जरी के फायदे

भारत की लगभग आधी आबादी को दृष्टि की समस्या है। हालांकि, अब इसे ठीक करना आसान हो गया है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि लेसिक सर्जरी व्यावहारिक रूप से सभी दृष्टि समस्याओं के लिए एक सुरक्षित और उचित समाधान प्रदान करती है। लेसिक सर्जरी के कुछ फायदे इस प्रकार हैं:

  • मरीज की बेहतर दृष्टि के लिए लंबे समय तक चलने वाले नतीजे।
  • बिना चश्मे के बेहतर लुक पाप्त होना।
  • चश्मे या कॉन्टैक्ट लेंस से छुटकारा पाने का बेस्ट तरीका।
  • यह प्रक्रिया पूरी तरह से दर्द रहित, ब्लेड रहित, सुरक्षित और यूएस-एफडीए अप्रूव्ड है।
  • सर्जरी के एक दिन बाद मरीज जल्दी ठीक होने पर अपने सामान्य समय पर वापस आ सकते हैं।
  • सर्जरी के लगभग एक दिन बाद आपकी दृष्टि में सुधार होता है।
  • लेसिक सर्जरी के बाद कोई ड्रेसिंग या टांके लगाने की उम्मीद नहीं है।

आंखों की लेसिक सर्जरी के विकल्प

स्टैंडर्ड लेसिक

यह लेसिक सर्जरी के लिए बेस स्टैंडर्ड है। इस मेथड के तहत एक ब्लेड का उपयोग करके कॉर्निया में एक फ्लैप बनाया जाता है।

फेम्टो लैसिक (ब्लेड फ्री)

यह स्टैंडर्ड लेसिक का एडवांस वर्जन है, जिसकी वजह से यह सर्जिकल प्रक्रिया आज की सबसे उच्च स्तर वाली लेसिक सर्जरी है। इसमें कॉर्नियल फ्लैप बनाने के लिए ब्लेड का उपयोग नहीं किया जाता है। इसके बजाय फ्लैप बनाने के लिए सर्जन फेम्टोसेकंड लेजर का उपयोग करते हैं। यह पूरी प्रक्रिया पूरी तरह से स्वचालित है। इसलिए, फेम्टोलेसिक के साथ उच्च स्तर की सुरक्षा और योग्यता की पूरी गारंटी है।

स्माइल

स्माइल एक फ्लैप रहित, ब्लेड रहित और बिना पट्टी वाली सर्जरी है। इसकी रिकवरी में आमतौर पर कुछ दिन यानी लगभग 7 से 10 दिन लगते हैं। एक स्माइल के साथ बाद में सुखी आंखों के प्रभाव भी कम होते हैं।

आईसीएल / इम्प्लांट

आईसीएल दुनिया भर में अपनाया गया सबसे एडवांस विजन करेक्शन प्रोसीजर है। दृष्टि सुधार त्रुटियों के लिए बेहतरीन नतीजे प्रदान करने के लिए एस्फेरिकल लेंस को ठीक किया जाता है और आंख के प्राकृतिक लेंस पर रखा जाता है।

कॉन्ट्यूरा विजन

चश्मा हटाने की सर्जरी में सुधार को कॉन्ट्यूरा लेसिक ने भी मान्यता दी है। सर्जरी के साथ उच्च स्तर की सटीकता मुख्य रूप से आंख की टोपोग्राफिकल मैपिंग के कारण होती है। कॉन्ट्यूरा प्यूपिलरी एक्सिस के बजाय विजुअल एक्सिस पर काम करता है। इस प्रकार यह उपचार विजुअल एक्सिस पर तेज विजुअल क्लैरिटी लाता है।

लेसिक बनाम कॉन्ट्यूरा विजन बनाम स्माइल

ब्लेड रहित लेसिक

  • साफ दृष्टि
  • यूएस – एफडीए सर्टिफाइड
  • फेम्टो लेजर + एक्साइमर लेजर
  • सबसे तेज विजुअल रिकवरी – बेहतरीन नतीजे
  • लेजर डिलीवरी के दौरान डिजिटल ट्रैकिंग
  • दोबारा उपचार की संभावनाएं

कॉन्ट्यूरा विजन

  • बेहतर दृष्टि की संभावनाएं – 6/6 से ज्यादा
  • यूएस – एफडीए प्रमाणित
  • फेम्टो + एक्सीमर + टोपोलेजर
  • चश्मे की पावर में सुधार + कॉर्नियल अनियमितताएं + विजुअल एक्सिस ट्रीटमेंट
  • तेज से होने वाली विजुअल रिकवरी – बेहतरीन प्रभाव

स्माइल

  • स्टैंडर्ड विजन
  • यूएस – एफडीए ऑथोराइज्ड
  • केवल फेम्टो लेजर
  • चश्मे की पावर में सुधार की संभावना
  • मैनुअल ट्रैकिंग – कोई डिजिटल ट्रैकिंग नहीं
  • दोबारा उपचार संभावित

लेसिक, कॉन्ट्यूरा विजन या आईसीएल के लिए मानदंड

आंखों के चश्मे की पावरचश्मा हटाने की प्रक्रिया
-1 to -8सभी लेजर प्रक्रिया (आईसीइल, कॉन्ट्यूरा या लेसिक)
-8 to -18आईसीएल
+1 to +5कॉन्ट्यूरा / लेसिक
+5 to +10आईसीएल या आरएलई

भारत में लेसिक सर्जरी की कीमत

आई मंत्रा अस्पताल सबसे अच्छे दामों पर आंखों की लेसिक सर्जरी ऑफर करने वाले टॉप आई हॉस्पिटल में से एक है। यहां स्टैंडर्ड ब्लेड लेसिक की कीमत सिर्फ 15,000 रुपये से शुरू होती है। दिल्ली में बिना ब्लेड वाली लेसिक प्रक्रिया का खर्च लगभग 75,000 रुपये और 90,000 रुपये के बीच अलग हो सकता है। हालांकि इसकी सटीक कीमत प्रत्येक मामले की जटिलता और उपयोग की जाने वाली प्रक्रिया के अनुसार अलग-अलग होती है। सर्जरी की कीमत से संबंधित एक तुलना निम्नलिखित है:

प्रक्रियारिकवरी का समयजोखिम (जगह से हटना / फ्लैप फटना)उपयुक्तता (हाई पावर / पतली कॉर्निया)मुख्य फायदेकीमत / आंख (₹)
दिल्ली में स्टैंडर्ड लेसिक30 दिनउच्चचश्मा हटाने के लिए बेसिक स्टैंडर्ड सर्जरी12,000
दिल्ली में सी लेसिक15 दिनउच्चकॉर्निया के लिए कस्टमाइज16,000
दिल्ली में कॉन्ट्यूरा3 दिननिम्नसुपर विजन के लिए कॉर्नियल पॉलिशिंग और अब्रेशन रिमूवल।25,000
दिल्ली में ट्रांसपीआरके3 दिननिम्नएक कदम वाली प्रक्रिया: ब्लेड रहित, फ्लैप रहित, स्पर्श रहित और सबसे सुरक्षित32,000
दिल्ली में फेम्टो लेसिक3 दिनउच्चफ्लैप बनाने के लिए लेजर का इस्तेमाल40,000
दिल्ली में आईसीएल सर्जरी3 दिनमध्यमआंख के लेंस को एक नए लेंस से बदलना40,000
दिल्ली में स्मार्ट सर्फ लेसिक3 दिनबहुत कमअब्रेशन हटाने के साथ 5डी आई ट्रैकिंग | ज्यादा से ज्यादा ऊतकों की बचत45,000
दिल्ली में स्माइल7 दिननिम्नआंखों के ऊतकों को निकालकर दृष्टि सुधार के लिए लेजर का उपयोग किया जाता है।80,000

हमारे नैदानिक ​​पदचिह्न

हम मंत्रा देखभाल प्रौद्योगिकी से आसान भंडारण और जानकारी तक पहुंच प्रदान करते हैं। यहां, मरीज एक ही स्थान से वर्चुअल डॉक्टर परामर्श, उपचार योजना, नुस्खे आदि से आसानी से नोट्स प्राप्त कर सकते हैं। किसी भी डिजिटल डिवाइस से 24/7 चिकित्सा जानकारी प्राप्त करें।

मंत्रा केयर का उद्देश्य मरीजों को उनके किफायती और गुणवत्ता आधारित चिकित्सा उपचार के माध्यम से अधिक कुशल अनुभव प्रदान करना है।
हम अपनी कंपनी को रोगियों के लिए सबसे अच्छा विकल्प बनाते हुए लगभग हर स्वास्थ्य समस्या के लिए अपेक्षाकृत कम लागत वाले उपचार प्रदान करते हैं। मंत्रा केयर तकनीक सदस्यों और डॉक्टरों के लिए सभी मैनुअल कार्यों को स्वचालित करती है, जिससे यह कम लागत वाले उपचार प्राप्त करने के लिए एक व्यवहार्य विकल्प बन जाता है।

Happy-Clients

30000+
खुश रोगी

Surgeries

10000+
सर्जरी

Doctor

100+
डॉक्टरों

Clinics

70+
क्लिनिक

Location

20+
शहर

Hospitals

200+
अस्पताल

टॉप लेसिक सर्जन

Dr. Shweta Jain
Dr. Shweta Jain
Cataract, Glaucoma, LASIK
Dr. Neha Wadhwa
Dr. Neha Wadhwa
LASIK
Dr. Neha Mohan
Dr. Neha Mohan
Femtosecond LASIK
Dr. Rajat Jain
Dr. Rajat Jain
Femtosecond LASIK

विश्व स्तरीय लेसिक सुविधाएं

NCT-Tonometer
NCT Tonometer
Post-Operative-Care
Post Operative Care
Humphrey Field
Humphrey Field
Yag Laser
Yag Laser
Phaco-Machine
Phaco Machine
Eyemantra-Delhi
Eyemantra Delhi

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

लेसिक सर्जरी एक ऐसी प्रक्रिया है, जो चश्मे या कॉन्टैक्ट लेंस की जरूरत को खत्म और कम करने में मदद करती है। इसमें एक एक्सीमर लेजर निकट दृष्टि, दूरदर्शिता और दृष्टिवैषम्य को ठीक करने के लिए कंप्यूटर नियंत्रित सटीकता के साथ कॉर्निया को धीरे से नया आकार देता है।

लेसिक सर्जरी का उपयोग मायोपिया (नज़दीकीपन), हाइपरोपिया (दूरदृष्टि) और एस्टिगमेटिज्म (दृष्टिवैषम्य) जैसी दृष्टि समस्याओं को ठीक करने के लिए किया जाता है।

लेसिक सर्जरी की शुरुआती कीमत 15,000 रुपये प्रति आंख है। हालांकि, यह कीमत 2 लाख रुपये प्रति आंख तक जा सकती है।

लेसिक सर्जरी में आमतौर पर प्रत्येक आंख के लिए 15 से 20 मिनट लगते हैं और यह सब इस बात पर निर्भर करता है कि आप दृष्टि से संबंधित किस समस्या का सामना कर रहे हैं

यह जानने के लिए कि आप लेसिक सर्जरी के लिए योग्य उम्मीदवार हैं या नहीं, आपके पास निम्नलिखित चीजें होनी चाहिए:

  • कम से कम 18 साल की उम्र।
  • सक्रिय कॉर्नियल बीमारी का इतिहास या जांच के नतीजे।
  • अगर आप अपने चश्मे या कॉन्टैक्ट लेंस के प्रिस्क्रिप्शन में समय-समय पर बदलाव चाहते हैं।
  • कुछ स्थितियां और दवाएं। स्टेरॉयड दवाएं आपकी दृष्टि में अनियमित बदलाव की वजह बन सकती हैं।
  • अगर आपकी पुतलियां बड़ी हैं या आप सूखी आंखों की समस्या से पीड़ित हैं।

लेसिक सर्जरी के लिए आने से पहले आपके द्वारा कुछ जरूरी तैयारी करना जरूरी है, जिनमें शामिल हैं-

  • प्रक्रिया से एक दिन पहले अपने आंखों के डॉक्टर द्वारा अनुशंसित दोनों आंखों में एंटीबायोटिक आई ड्रॉप डालें। आमतौर पर इसे दिन में 6 बार उपयोग के लिए निर्धारित किया जाता है।
  • लेसिक के दिन आंखों और चेहरे पर परफ्यूम, पाउडर और मेकअप का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।
  • सर्जरी से 1 हफ्ते पहले कॉन्टैक्ट लेंस का उपयोग बंद करना आंखों और बेहतर नतीजे प्राप्त करने के लिए बेहतर होता है। आपके डॉक्टर के परामर्श से एक छोटी सी छूट की अनुमति है।
  • लेसिक सर्जरी के दिन अपने बालों को धो लें, ताकि आपको अगले 2 से 3 दिनों तक उन्हें धोने की जरूरत नहीं हो।
  • लेसिक के लिए आने से पहले सामान्य हल्का भोजन करें।

जी हां, लेसिक प्रक्रियाएं बहुत सुरक्षित हैं। यह प्रक्रियाएं यूएस-एफडीए द्वारा अप्रूव और सर्टिफाइड भी हैं। इसका मतलब है कि उन्हें मानव आंखों के लिए सुरक्षा की मंजूरी दी गई है। हालांकि, किसी अन्य सर्जरी की तरह इसमें भी कुछ जटिलताओं की संभावना शामिल हो सकती हैं। यह जटिलताएं प्रक्रिया से पहले उचित जांच करने पर बहुत ही दुर्लभ होती हैं।

कुछ मरीजों को आंखों में हल्के सूखेपन का अनुभव हो सकता है, जिसमें लुब्रिकेटिंग ड्रॉप्स के उपयोग से राहत मिलती है। इससे सूखी आंखों की समस्या समय के साथ अपने आप गायब हो जाती है। कुछ लोगों को रात के समय थोड़े समय के लिए रोशनी के चारों तरफ चमकते घेरे यानी हेलोज का भी अनुभव हो सकता है और यह भी समय के साथ कम हो जाता है। इसके अलावा लेसिक के तुरंत बाद व्यक्ति को हल्का भारीपन और दृष्टि में धुंधलापन का अहसास हो सकता है। यह प्रक्रिया के दौरान आंखों को सुन्न करने के लिए उपयोग की जाने वाली आई ड्रॉप्स के प्रभाव की वजह से होता है। इस प्रकार यह सभी जटिलताएं बेहद दुर्लभ हैं, जिन्हें आपके डॉक्टर द्वारा आसानी से प्रबंधित किया जा सकता है।

नहीं, लेसिक सर्जरी एक दर्दनाक प्रक्रिया नहीं है। कई मरीजों ने अनुभव किया है कि लेसिक सर्जरी से उन्हें दर्द का अहसास नहीं होता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि लेसिक सर्जरी से पहले आंख को पूरी तरह से सुन्न करने के लिए एनेस्थेटिक ड्रॉप्स डाली जाती है। इसके अलावा सर्जरी से पहले उम्मीदवार को आराम का एहसास देने के लिए हल्का सीडेटिव भी दिया जा सकता है।

जी हां, कई मरीजों को एक ही दिन दोनों आंखों का इलाज कराने में ज्यादा मदद मिलती है।

लेजर दृष्टि सुधार के बाद दूरी में सुधार सामान्य रूप से स्थायी है। हालांकि, बढ़ती उम्र के साथ बदलाव होने की संभावना है, फिर चाहे आपकी लेसिक सर्जरी हुई हो या नहीं।

लेसिक सर्जरी दृष्टि में सुधार करने वाली एक ऐसी प्रक्रिया है, जो एफडीए-अप्रूव्ड है। इसमें जटिलताओं के कम प्रतिशत के साथ आखिरी नतीजे की उच्च संभावना है। इसके अलावा पुरानी बिना लेजर वाली प्रक्रियाओं में आमतौर पर सुधार के लिए ऑटोमेटिक लेजर के बजाय मैनुअल रूप से की जाने वाली सर्जरी शामिल होती है।