गुर्दे की पथरी का सही इलाज, लक्षण और बचाव- Gurde Ki Pathri ka sahi Ilaj, lakshan aur Bachav

gurde ki pathri

Contents

गुर्दे की पथरी (किडनी स्टोन) क्या है?- what is kidney stone in Hindi

गुर्दे की पथरी एक कठोर वस्तु है जो यूरिन में केमिकल्स से बनती है। गुर्दे की पथरी रेत के जैसे दाने या गंद की जितनी बड़ी हो सकती है। कई बार यह हमारे गुर्दे या मूत्र पथ के माध्यम से हमारे शरीर से बाहर आ जाता है।

मूत्र में कई तरह के वेस्ट घुल जाते हैं. जब बहुत कम तरल में बहुत अधिक वेस्ट होता है, तो क्रिस्टल बनने लगते हैं. क्रिस्टल अन्य तत्वों को आकर्षित करते हैं और एक ठोस बनाने के लिए एक साथ जुड़ते हैं जो तब तक बड़ा होता जाएगा जब तक कि यह मूत्र के साथ शरीर से बाहर न निकल जाए।

आमतौर पर, इन रसायनों को शरीर के मास्टर केमिस्ट: किडनी द्वारा मूत्र में समाप्त कर दिया जाता है। ज्यादातर लोगों में, पर्याप्त तरल पदार्थ होने से वे बाहर निकल जाते हैं या मूत्र में अन्य रसायन पथरी को बनने से रोकते हैं। पत्थर बनाने वाले रसायन कैल्शियम, ऑक्सालेट, यूरेट, सिस्टीन, जैंथिन और फॉस्फेट हैं।

गुर्दे की पथरी (किडनी स्टोन) के लक्षण – Kidney Stone Symptoms in HindiSymptoms of Kidney Stone

किडनी में बहुत छोटे आकार के स्टोन या पथरी आमतौर पर चिंता का विषय नहीं है, क्योंकि वो पथरी मूत्र के जरिए निकल जाते है. और पथरी तब तक पता नहीं चलता जब तक वह किडनी के अंदर रहती है. जब यह गुर्दे के अंदर हिलने लगते हैं या युरेटर (जोकि किडनी और ब्लैडर को जोड़ने वाली ट्यूब) में चले जाते हैं, तब लक्षण का पता चलता हैं।

और अगर ये स्टोन युरेटर में फंस जाए तो यूरिन के फ्लो को रोक सकते है, जिससे किडनी में सूजन आने लगती है और युरेटर ऐछन हो जाती है जोकि बहुत दर्दनाक है.

नीचे गुर्दा की पथरी के सामान्य लक्षण

  • पीठ, पसलियों के नीचे और साइड में तेज का दर्द होना.

  • मूत्र में खून का आना.

  • कभी रह-रह के या कभी गंभीर दर्द होता है.

  • पेशाब करने में दर्द या जलन होना.

  • मूत्र पथ के संक्रमण से तेज बुखार या ठंड लगना

  • लाल, भूरा या गुलाबी रंग का पेशाब आना

  • पेशाब में बदबू आना

  • जी मिचलाना और उल्टी आना

  • पेशाब का बार-बार आना

  • सामान्य से अधिक बार यूरिन

जैसे-जैसे पथरी यूरिनरी ट्रैक्ट में आगे बढ़ती है, वैसे-वैसे पथरी का दर्द साथ-साथ बदल सकता है।

गुर्दे की पथरी (किडनी स्टोन) के कारण – Kidney Stone Causes in Hindi 

किडनी और यूरेटरल पत्थरों को किसी से भी हो सकता है सामान्य परिस्थितियों में, मूत्र में एक रासायनिक संतुलन बनाए रखता है लेकिन कुछ कारक पत्थरों के गठन को ट्रिगर करते हैं। जैसे की

हेरिडिटी या परिवार का इतिहास:

जेनेटिक परिवर्तन गुर्दे की पथरी के विकास के जोखिम को बढ़ा सकते हैं, जो अक्सर विभिन्न पर्यावरणीय और जीवन शैली कारकों के संयोजन में कार्य करते हैं। इस स्थिति में शामिल अधिकांश जीन बाहरी कोशिकाओं से अंदर की कोशिकाओं तक रासायनिक संकेतों को संचारित करने या कोशिकाओं के अंदर और बाहर सामग्री के परिवहन के लिए महत्वपूर्ण हैं। ये प्रक्रियाएं कोशिकाओं के भीतर विभिन्न सामग्रियों के स्तर को विनियमित करने में मदद करती हैं, जिसमें मिनरल और कंपाउंड शामिल हैं जो गुर्दे की पथरी बनाते हैं। इन जीनों में परिवर्तन कोशिकाओं में इन सामग्रियों के स्तर को बदल सकता है, जिससे मूत्र में मिनरल और कंपाउंड का असंतुलन हो सकता है। नतीजा, पत्थर के बनने की संभावना बढ़ जाती है। साथ ही मूत्र में कैल्शियम का उच्च स्तर पीढ़ी दर पीढ़ी पारित हो सकता है।

भौगोलिक क्षेत्र:

पथरी होने होने का एक मुख्य कारण आपका भौगोलिक क्षेत्र भी होता है। कहते है की कुछ गर्म जगह में रहने वालों को भी गुर्दे में पथरी हो सकता है। भारत में कुछ गर्म जगह जैसे की महाराष्ट्र, गुजरात, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली और राजस्थान के हिस्सों में गुर्दे की पथरी की समस्या काफी प्रचलित है। गर्म जलवायु के क्षेत्र में रहना और अपर्याप्त द्रव सेवन करना पथरी होने का कारण हो सकता है।

आहार:

उच्च प्रोटीन आहार मूत्र के एसिड सामग्री को बढ़ाता है, जिससे पत्थर के गठन की संभावना बढ़ जाती है। यदि आपके खानपान में प्रोटीन और सोडियम की ज़्यादा मात्रा है और कैल्शियम कम है, तब भी आपकी किडनी में पथरी हो सकती है। साथ ही ऑक्सालेट में समृद्ध भोजन का उच्च सेवन जैसे हरी पत्तेदार सब्जियां (जैसे पालक), सूखे फल, चॉकलेट और चाय.

हाइपरथायरायडिज्म:

इसमें भी मूत्र में कैल्शियम के अधिक गठन का परिणाम है. जब शरीर हमारे द्वारा खाने वाले खाद्य पदार्थों से अधिक कैल्शियम को अवशोषित करता है, तो अवशोषण हाइपरक्लसियारिया नामक एक शर्त भी पत्थर के निर्माण में होती है।

दवाइयां:

ड्यूरेटिक्स(पानी की पिल्स) और ज़्यादा कैल्शियम वाले एंटासिड लेने वाले लोगों के पेशाब में कैल्शियम का स्तर ज्यादा हो जाता है जिससे पथरी बनती है। विटामिन ए और विटामिन डी से भी कैल्शियम का स्तर बढ़ सकता है। एचआईवी के उपचार के लिए इंडिनवीर दवा से इंडिनवीर पथरी का गठन हो सकता है। इसके अलावा भी कुछ दवाएं पथरी के गठन का कारण बन सकती हैं।

साथ ही पथरी के लिए अन्य कारक भी शामिल है, जैसे की

  • 30 से 50 वर्ष की आयु के पुरुषों को गुर्दे की पथरी होने की संभावना अधिक होती है।
  • कम एस्ट्रोजन स्तर वाली महिलाओं और जिन महिलाओं के अंडाशय निकले हुए हैं उन्हें गुर्दे की पथरी होने की संभावनाएं ज्यादा होती हैं।
  • गैस्ट्रिक बाईपास सर्जरी वालों को भी पथरी हो सकती है।
  • पानी पीना आपकी सेहत के लिए बहुत ज़रूरी है| क्योंकि हमरा शरीर 80% पानी से बना हुआ होता है. अगर आप पानी बहुत ही कम पीते हैं तो किडनी स्टोन होने का खतरा बढ़ जाता है|
  • मोटापा ही ना अगर आपका बॉडी मास इंडेक्स, और कमर का साइज बहुत ही ज़्यादा है तो, किडनी स्टोन होने का खतरा बढ़ जाता है| इसलिए यह बेहतर होगा की आप अपने मोटापे को कम करें|

गुर्दे की पथरी (किडनी स्टोन) कितने प्रकार के होते है – Kidney Stone Types in Hindi

पथरी चार प्रकार की होती है:

कैल्शियम स्टोन (Calcium stone): Types of kidney stones

कैल्शियम स्टोन सबसे कॉमन प्रकार है | यह कैल्शियम ऑक्सलेट (सबसे आम), फॉस्फेट, या मेलिएट के मेल से बने है | इसको नियंत्रण में करने के लिए आपको आलू, मूंगफली, चॉकलेट, चुकंदर और पालक की मात्रा कम करने होगी |

यूरिक एसिड स्टोन (Uric Acid Stone):

यह प्रकार पुरुष में अधिक पाया जाता है महिलाओं के मुकाबले में | जो लोग कीमोथेरेपी और गाउट की समस्या से जूझ रहे है उनमे में यह बहुत ही कॉमन है | जब मूत्र में एसिड की मात्रा बढ़ जाती है तो इस प्रकार के स्टोन बनते है |

स्ट्रूवाइट स्टोन (Struvite Stone):

यह प्रकार ज्यादातर महिलाओं में होती है जिनको मूत्र-पथ से संक्रमण है | इन स्टोन का आकर बड़ा हो सकता है जो की मूत्र में बाधा डाल सकते है |

सिस्टीन स्टोन (Cystine Stone):

इस स्टोन के मामले बहुत ही कम है| इस प्रकार के स्टोन महिलाओं और पुरुषों दोनों में पांए जाती है |

गुर्दे की पथरी (किडनी स्टोन) से बचाव – Prevention of Kidney Stone in Hindi 

अब बात करेंगे की पथरी का बचाव कैसे करे। नीचे गुर्दा की पथरी से बचाव में शामिल है:

  1. ज्यादा मात्रा में पानी पिए: 

पानी पीना आपकी सेहत के लिए बहुत ज़रूरी है| क्योंकि हमरा शरीर 80% पानी से बना हुआ होता है। तो ध्यान रखिए की आपको ज्यादा मात्रा में पानी पीना है|

  1. जूस का सेवन: 

आप पानी के साथ-साथ संतरे का जूस और नींबू पानी का भी सेवन कर सकते है| इसका सेवन करने से आपको ज्यादा से ज्यादा लाभ पहुंचेगा|

  1. कैल्शियम लें: 

आप अपनी उम्र के हिसाब से ही कैल्शियम की दवाई ले. आपको ध्यान रखने की जरूरत है की डॉक्टर से सलाह ले की एक दिन में कितना कैल्शियम लेना चाहिए।

  1. मीट वाले प्रोटीन का सेवन कम करे: 

हो सके तो मीट वाले प्रोटीन का सेवन कम करे। क्योंकि रेड मीट, मुर्गी, अंडे और समुद्री खाने का सेवन करने से यूरिक एसिड का लेवल बढ़ सकता है। जिससे की किडनी स्टोन होने का खतरा बढ़ जाता है |

  1. सोडियम कम लें 

आपके खाने में ज्यादा सोडियम होने से पथरी बन सकती है, जिससे यूरिन में कैल्शियम की मात्रा बढ़ जाती है। इसलिए गुर्दे की पथरी से बचने के लिए अपने खाने में सोडियम की मात्रा को कम करें।

गुर्दे की पथरी (किडनी स्टोन) का परीक्षण – Diagnosis of Kidney Stone in Hindi 

किडनी के परीक्षण निम्नलिखित तरीको से किया जाता है:

  1. खून की जांच: खून परीक्षण आपके खून में ज्यादा कैल्शियम या यूरिक एसिड की जाँच करता है। खून परीक्षण के परिणाम आपके गुर्दे के स्वास्थ्य और अन्य चिकित्सकीय स्थितियों की जांच के लिए होते है।

  2. यूरिन का टेस्ट: 24-घंटे का यूरिन संग्रह परीक्षण यह दिखा सकता है कि आप आपके यूरिन में बहुत सारे पथरी बनाने वाले मिनरल हैं या पथरी के गठन को रोकने वाले पदार्थ कम हैं। इस परीक्षण के लिए, आपके डॉक्टर आपको लगातार दो दिनों के लिए दो यूरिन संग्रहण करने के लिए कह सकते हैं।

  3. इमेजिंग टेस्ट: इमेजिंग परीक्षण आपके यूरिन-पथ में गुर्दे की पथरी दिखा सकते हैं। इमेजिंग टेस्ट में शामिल हैं – पेट का एक्स-रे, सीटी स्कैन और अल्ट्रासाउंड।

  4. पारित पथरी का विश्लेषण: पथरी को जाने के लिए आपको एक झरनी के माध्यम से पेशाब करने के लिए कहा जा सकता है। लैब विश्लेषण आपके गुर्दे की पथरी के होने की वजह बता सकता है और गुर्दे की पथरी के गठन को रोकने के लिए एक योजना बना सकते हैं।

गुर्दे की पथरी (किडनी स्टोन) का इलाज – Kidney Stone Treatment in Hindi 

किडनी स्टोन के इलाज करने के लिए निम्नलिखित तरीके है:

  • दवाएं: अगर आपको अधिक दर्द है तो डॉक्टर दवाएं लिख कर देंगे |अन्य दवाएं हैं – एलोप्यूरिनॉल (यूरिक-एसिड स्टोन के लिए), सोडियम बाइकार्बोनेट (सोडियम साइट्रेट के लिए) और फास्फोरस घोलड्यूरेटिक दवाएं.

  • लिथोट्रिप्सी: लिथोट्रिप्सी एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें गुर्दे, मूत्राशय(urinary bladder), या मूत्रवाहिनी(ureters) की पथरी को तोड़ने के लिए शॉक तरंगों का उपयोग किया जाता है। पथरी को तोड़ने के बाद, छोटे टुकड़े मूत्र के साथ शरीर से बाहर निकल जाते हैं। लेकिन इससे पेट के निचले हिस्से और पीठ पर नील हो सकते हैं और गुर्दे और अंगों के चारों ओर खून बह सकता है।

  • परक्यूटेनियस नेफ्रो लिथोटॉमी: परक्यूटेनियस नेफ्रोलिथोटॉमी में मरीज की पीठ में बनाए गए एक ट्रैक के माध्यम से गुर्दे में डाले गए नेफ़्रोस्कोप के माध्यम से रोगी के मूत्र पथ से मध्यम या बड़े आकार के गुर्दे की पथरी को हटाने की एक प्रक्रिया है।

  • यूरेटेरोस्कोपी: यूरेटेरोस्कोपी का इस्तेमाल मूत्रनली और गुर्दे के अंदर देखने के लिए करते है। ये एक छोर पर एक आई पीस होता है, बीच में एक कठोर या लचीली ट्यूब होती है. इसमें एक छोटी सी तार जिस पर कैमरा लगा होता है, मूत्रमार्ग में डाला जाता है जो मूत्राशय में जाता है। पथरी को निकालने के लिए एक छोटे से पिंजरे का उपयोग किया जाता है और विश्लेषण के लिए स्टोन प्रयोगशाला में भेजा जाता है।

गुर्दे की पथरी (किडनी स्टोन) से होने वाली समस्याएं – Kidney Stone Complications in Hindi 

 पेशाब में दर्द, उल्टी और खून जैसे लक्षण पैदा करने के अलावा गुर्दे की पथरी गंभीर चिकित्सीय जटिलताएं भी पैदा कर सकती है। इसमे शामिल है:

  • सेप्टीसीमिया(septicemia) सहित गंभीर संक्रमण जो जीवन के लिए खतरा हो सकता है।

  • गुर्दे पर निशान पड़ना और गुर्दे को नुकसान, जिसके परिणामस्वरूप पूरे तरीके से गुर्दे खराब हो जाते है।

  • गुर्दा के कार्य का नुकसान जिसके परिणामस्वरूप गुर्दा को हटाने की आवश्यकता होती है।

  • ब्लैडर ब्लॉकेज का परिणाम तब हो सकता है जब एक बड़ा पत्थर मूत्राशय में जाने में कामयाब हो गया हो। लेकिन मूत्रमार्ग में फंस गया हो, जिसके परिणामस्वरूप दर्दनाक मूत्र प्रतिधारण हो।

निष्कर्ष – Conclusion

किसी भी समस्या से बचने के लिए आपको हमेशा अपने शरीर की पूरी तरह से देखभाल करनी चाहिए। आपको इस बारे में पूरी तरह भरोसा होना चाहिए कि कुछ खाद्य पदार्थ को आपके शरीर पर क्या प्रभाव होता है। इसका सबसे अच्छा विकल्प एक संतुलित आहार चार्ट बनाना और हर उस चीज़ पर ध्यान देना है, जो आपकी सकारात्मक तरीके से मदद करती है। इसके अलावा सबसे ज़रूरी बात यह है कि आपको उन तरीकों के बारे में पता होना चाहिए, जिनसे आप समय पर पथरी का इलाज कर सकते हैं।

मंत्रा केयर – Mantra Care

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज उपचार, ऑनलाइन थेरेपी, हाइपरटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी जरूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.